ब्रिक्स सम्मेलन में बोले पीएम मोदी, कहा— आतंकियों का समर्थन करने वाले देश भी ठहराए जाएं दोषी

235

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज 12वें ब्रिक्स सम्मेलन को संबोधित करते हुए आतंकवाद और आतंकियों को समर्थन करने वाले देशों पर तीखा हमला बोला है। बैठक को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हमारी वैक्सीन उत्पादन और डिलीवरी क्षमता भी इस तरह मानवता के हित में काम आएगी। इस बार कोरोना संक्रमण के चलते ब्रिक्स सम्मेलन वर्चुअल हुआ। ब्रिक्स सम्मेलन की अध्यक्षता रूस के प्रधानमंत्री ब्लादिमीर पुतिन कर रहे हैं। साथ ही चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने भी इस सम्मेलन में हिस्सा ले रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: बराक ओबामा ने किया सनसनीखेज खुलासा, दुनिया की नजर पाकिस्तान पर

बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्रिक्स देशों के सामने मजबूती के साथ आतंकवाद का मुद्दा भी उठाया। पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद आज पूरे विश्व के सामने सबसे बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा, कि अब हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि आतंकवादियों को समर्थन और सहायता देने वाले देशों को भी दोषी ठहराया जाए और संगठित तरीके से इस समस्या का मुकाबला किया जाए। प्रधानमंत्री ने कहा कि हमने आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत एक व्यापक सुधार प्रक्रिया पर काम करना शुरू किया है। इस अभियान की नींव इस विश्वास पर टिकी है कि एक आत्मनिर्भर और लचीला भारत कोरोना संकट के बाद वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए फोर्स मल्टी प्लायर साबित होते हुए ग्लोबल वैल्यू चैन में अपना एक मजबूत योगदान दे सकता है।

उन्होंने कहा कि इसका उदहारण हमने कोविड 19 के दौरान भी देखा है, जब भारतीय फार्मा उद्योग की क्षमता के बदौलत 150 से अधिक देशों को हम आवश्यक दवाइयां भेजने में सफल रहे। इसी तरह हमारी वैक्सीन उत्पादन और डिलीवरी क्षमता भी मानवता के हितों के लिए काम आएंगी। पीएम मोदी ने कहा, 2021 में ब्रिक्स के 15 वर्ष पूरे हो जाएंगे। बीते वर्षों में हमारे बीच लिए गए विभिन्न निर्णयों का मूल्यांकन करने के लिए शेरपा एक रिपोर्ट तैयार कर सकती है। आगामी वर्ष 2021 में अपनी अध्यक्षता के दौरान हम ब्रिक्स के तीनों स्तंभों में इंट्रा ब्रिक्स सहयोग को और मजबूत करने का प्रयास करेंगे।

इसे भी पढ़ें: जानिए क्या हुआ जब बेटे संजय दत्त के लिए सुनील दत्त ने बाल ठाकरे से मांगी थी मदद